Karwa Chauth 2022 Date: करवा चौथ कब है, अबकी बार करक चतुर्थी पर क्या क्या शुभ संयोग बने हैं |

शुभ संयोग

KARWA CHAUTH के शुभ मुहूर्त (Karwa Chauth Vrat 2022 Shubh Muhurat): KARWA CHAUTH को लेकर सुहागन महिलाओं में काफी उत्साह रहता है। सुहागिन महिलाओं के लिए यह दिन बेहद ही खास होता है। मान्यताओं के अनुसार, इस व्रत को करने से शादीशुदा जीवन सुखमय होता है और अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है। KARWA CHAUTH का व्रत हर साल कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को रखा जाता है। इस बार यह व्रत 13 अक्टूबर 2022 को रखा जाएगा। इस बार KARWA CHAUTH पर बेहद ही शुभ संयोग भी बन रहा है। आइए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से…



KARWA CHAUTH पर बन रहा शुभ संयोग
हिंदू पंचांग के मुताबिक KARWA CHAUTH का व्रत हर वर्ष कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को रखा जाता है। 12 अक्टूबर को रात में 2 बजे से चतुर्थी तिथि का प्रारंभ होगा और 13 तारीख की मध्य रात्रि 3 बजकर 09 मिनट पर चतुर्थी तिथि का समापन होगा। इसलिए 13 अक्टूबर को ही KARWA CHAUTH का व्रत रखा जाएगा। ऐसे में शाम में कृतिका नक्षत्र शाम में 6 बजकर 41 मिनट तक रहेगा।



इसके बाद रोहिणी नक्षत्र का आरंभ हो जाएगा। चंद्रमा (MOON) KARWA CHAUTH के दिन वृष राशि में संचार करेंगे जो चंद्रमा (MOON) की उच्च राशि है। इसपर रोहिणी नक्षत्र का संजोग मिल जाने से KARWA CHAUTH का व्रत सुहागिनों के लिए और भी शुभ फलदायी होगा क्योंकि, धार्मिक ग्रंथों के अनुसार, चंद्रमा (MOON) का सबसे प्रिय नक्षत्र रोहिणी माना गया है।

निर्जला व्रत रखकर चंद्रमा (MOON) से करें उपासना
KARWA CHAUTH के दिन महिलाएं सोलह श्रृंगार करके निर्जला व्रत रखती हैं और चौथ माता यानी माता पार्वती की उपासना करती हैं और उनसे अपने पति की लंबी उम्र की कामना करती है। इसके बाद शाम के समय दिन ढलने से पहले महिलाएं अपनी सास या नन्द को उपहार के रुप में कपड़े और श्रृंगार का सामान भेट करती हैं। दिनभर निर्जला व्रत रखकर रात के समय महिलाएं चंद्रमा (MOON) का अर्घ्य देने के बाद ही अपना व्रत खोलती हैं।

Leave a Comment