Janmashtami 2022:   भगवान श्रीकृष्ण को क्यों  करना पड़ा था 16 हजार  कन्याओं से विवाह 

महाभारत के अनुसार, श्रीकृष्ण ने रुक्मिणी का हरण कर उनके साथ विवाह रचाया था.

विदर्भ के राजा भीष्मक की पुत्री रुक्मणि भगवान कृष्ण से प्रेम करती थी और उनके साथ विवाह करना चाहती थीं. 

लेकिन बहुत कम लोगों को ये जानकारी है कि रुक्मणि के अलावा भी श्रीकृष्ण की 16,107 पत्नियां थीं.

पुराणों में उल्लेख है कि एक बार भूमासुर नाम के दैत्य ने अमर होने के लिए 16 हजार कन्याओं की बलि देने का निश्चय किया था. लेकिन श्रीकृष्ण ने भूमासुर को यह पाप नहीं करने दिया.

उन्होंने सभी कन्याओं को कारावास से मुक्त कराया और उन्हें वापस घर भेज दिया. हालांकि श्रीकृष्ण की यही मदद उन कन्याओं के लिए अभिषाप बन गई.

 दैत्य के चुंगल से मुक्त होकर जब ये कन्याएं घर वापस पहुंचीं तो समाज-परिवार ने इन्हें चरित्रहीन कहकर अपनाने से इनकार कर दिया. 

तब भगवान श्रीकृष्ण ने 16 हजार रूपों में प्रकट होकर एक साथ उनसे विवाह रचाया था.